Bhajan Song Kaali Ka Jab Khanjar Chale Nar Mundo Ki Dehri Laga Ke Khun Se Maa Khapar Bhare lyrics in Hindi

Hindi Song Lyrics Kaali Ka Jab Khanjar Chale Nar Mundo Ki Dehri Laga Ke Khun Se Maa Khapar Bhare

Lyrics Hindi Song Kaali Ka Jab Khanjar Chale Nar Mundo Ki Dehri Laga Ke Khun Se Maa Khapar Bhare. .

Kaali Ka Jab Khanjar Chale Nar Mundo Ki Dehri Laga Ke Khun Se Maa Khapar Bhare Song Lyrics in Hindi

Kaali Ka Jab Khanjar Chale Nar Mundo Ki Dehri Laga Ke Khun Se Maa Khapar Bhare lyrics

दूर गुणों से धरती हो खली काली का जब खंजर चले,

नर मुंडो की धेरी लगा के खून से माँ खपर भरे,
देख कर के रूप भयंकर काल भी तब माँ से डरे,
आँखों में हो सुर की निराली,
काली का जब खंजर चले,

देतय सुर दुस्टो का मिटाती काली का माँ नमो निशान,
लेकर खंजर दौड़े जिधर भी तराही तारहि हो उस जगह,
रकत की बह जाती है नाली,
काली का जब खंजर चले,

जय हो महिसा सुर मर्दानी की चण्ड मुंड सम्हारनी की,
रकत दांता कहलाने वाली खंजर तिरशूल धारणी की,
देव मिल के भजाते है ताली ,
काली का जब खंजर चले,

SongKaali Ka Jab Khanjar Chale Nar Mundo Ki Dehri Laga Ke Khun Se Maa Khapar Bhare
TypeBhajan Song Lyrics
Next Song Lyrics

Previous Song Lyrics