Song Hum Laye Hain Tufan Se Kashti Nikal Ke Is Desh Ko Rakhna Mere Bachcho Sambhal Ke Hindi Lyrics lyrics in Hindi

Hindi Song Lyrics Hum Laye Hain Tufan Se Kashti Nikal Ke Is Desh Ko Rakhna Mere Bachcho Sambhal Ke Hindi Lyrics

Lyrics Hindi Song Hum Laye Hain Tufan Se Kashti Nikal Ke Is Desh Ko Rakhna Mere Bachcho Sambhal Ke Hindi Lyrics. .

Hum Laye Hain Tufan Se Kashti Nikal Ke Is Desh Ko Rakhna Mere Bachcho Sambhal Ke Hindi Lyrics Song Lyrics in Hindi

Hum Laye Hain Tufan Se Kashti Nikal Ke Is Desh Ko Rakhna Mere Bachcho Sambhal Ke Hindi Lyrics lyrics

पासे सभी उलट गए दुश्मन की चाल के
अक्षर सभी पलट गए भारत के भाल के
मंज़िल पे आया मुल्क हर बला को टाल के
सदियों के बाद फिर उड़े बादल गुलाल के

हम लाए हैं तूफ़ान से कश्ती निकाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चों सम्भाल के
तुम ही भविष्य हो मेरे भारत विशाल के
इस देश को रखना मेरे बच्चों सम्भाल के

देखो कहीं बरबाद ना होए ये बगीचा
इसको हृदय के खून से बापू ने है सींचा
रक्खा है ये चिराग़ शहीदों ने बाल के, इस देश को...

दुनिया के दांव पेंच से रखना ना वास्ता
मंज़िल तुम्हारी दूर है लम्बा है रास्ता
भटका ना दे कोई तुम्हें धोखे में डाल के, इस देश को...

ऐटम बमों के जोर पे ऐंठी है ये दुनिया
बारूद के इक ढेर पे बैठी है ये दुनिया
तुम हर कदम उठाना ज़रा देख भाल के, इस देश को...

आराम की तुम भूल भुलय्या में ना भूलो
सपनों के हिंडोलों पे मगन होके ना झूलो
अब वक़्त आ गया है मेरे हँसते हुए फूलों
उठो छलाँग मार के आकाश को छू लो
तुम गाड़ दो गगन पे तिरंगा उछाल के, इस देश को...

फिल्म - जागृति (1954)
संगीत - हेमंत कुमार
गीतकार - \" कवि प्रदीप \"

SongHum Laye Hain Tufan Se Kashti Nikal Ke Is Desh Ko Rakhna Mere Bachcho Sambhal Ke Hindi Lyrics
TypeDesh Bhakti Song Lyrics
Next Song Lyrics

Previous Song Lyrics